Saturday, September 21, 2019
Home > बिज़नेस > बैन नोट जमा कराने के दौरान सरकार को शक हुआ और आपका पैसा काला धन साबित हुआ तो क्‍या हो सकती है कार्रवाई, जानिए

बैन नोट जमा कराने के दौरान सरकार को शक हुआ और आपका पैसा काला धन साबित हुआ तो क्‍या हो सकती है कार्रवाई, जानिए

"Income Tax Department,BKC ,Bandra, Mumbai." *** Local Caption *** "Income Tax Department,BKC ,Bandra, Mumbai. Express photo by Vasant Prabhu. 11�82012."

नई दिल्ली: अगर आप अपने बैंक खाते में ढाई लाख रुपये से ज्यादा नकद पैसे जमा करते हैं तो जुर्माना भरने के लिए तैयार रहिए। आयकर विभाग आपके ट्रांजैक्शन पर नजर रखेगा और जरूरी हुआ तो आपको आयकर विभाग नोटिस भेजकर पैसे का हिसाब-किताब मांग सकता है। अगर आप पर्याप्त सबूत देने में नाकाम रहे तो आयकर अधिकारी काला धन समझकर आप पर जुर्माना लगा सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं कि आयकर अधिनियम के तहत कौन-कौन से दंड लगाए जा सकते हैं और किन प्रावधानों के तहत आप राहत पा सकते हैं।

1. आयकर अधिनियम की धारा 270A के तहत जुर्माना: आय कर अधिकारी के आंकलन कार्यवाही के दौरान अगर आप उन्हें पैसों के बारे में गलत सूचना देते हैं तो आप पर आयकर अधिनियम की धारा 270A के तहत कठोरतम कार्रवाई हो सकती है। जिस राशि के बारे में आप उपयुक्त जबाब नहीं देंगे, उतनी राशि पर 50 फीसदी टैक्स लगाया जा सकता है। अगर अधिकारी को लगता है कि आप गलत सूचना दे रहे हैं तो जुर्माने की राशि टैक्स के अलावा 200 फीसदी हो सकती है। हालांकि, अधिकांश मामलों में आयकर विभाग अधिकतम जुर्माना यानी 200 फीसदी लगाने के पक्ष में है। इसके अलावा अगर आपने आयकर विवरणी में जो आय दिखाई है और उससे ज्यादा आय आपकी है तब भी आप पर आयकर के 143(2) सेक्शन के तहत जुर्माना लगाया जा सकता है।

2.आयकर अधिनियम की धारा 271A के तहत जुर्माना: आयकर आंकलन के दौरान अगर यह पाया जाता है कि आपने खाता-बही सही तरीके से नहीं लिखा है और न ही सेक्शन 44AA के तहत 6 सालों की आमदनी और खर्च का सही-सही विवरण का रिकॉर्ड रखा है तब अधिकारी आप पर 25 हजार रुपये का जुर्माना लगा सकते हैं।

3.आयकर अधिनियम की धारा 271 B के तहत जुर्माना: आयकर अधिकारी आंकलन के दौरान यह पाते हैं कि आपने टैक्स ऑडिट नहीं कराया है और उसकी रिपोर्ट 3CD फॉर्म नहीं भरा है तो आयकर अधिनियम की धारा 271बी के तहत कुल बिक्री या कुल टर्न ओवर या कुल रसीदी मूल्य का 0.5 फीसदी जुर्माना लगाया जा सकता है। हालांकि इस जुर्माने की अधिकतम राशि 50 हजार से ज्यादा नहीं हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)